वनडे में सचिन की 10 बेमिसाल पारियां, जिसके बाद उन्हें क्रिकेट का भगवान कहा जाने लगा

By | April 5, 2020
282 Views

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर एक ऐसा मशहूर नाम है, जो क्रिकेट की दुनिया में अमर हो गया है. क्रिकेट की दुनिया में भगवान का दर्जा रखने वाले सचिन तेंदुलकर ने भारत के लिए बहुत सी बेहतरीन पारियां खेली हैं, क्रिकेट में ऐसा कोई भी बड़ा रिकॉर्ड नहीं है, जिसमें इस महान बल्लेबाज का नाम शामिल न हो. शायद ही दुनिया का कोई गेंदबाज हो जिसकी इस महान बल्लेबाज ने धुनाई न की हो. अपने लाजवाब करियर में वैसे तो सचिन ने कई बेहतरीन पारियां खेली हैं लेकिन उनमें से कुछ पारियां हमेशा के लिए फैंस के दिल में अमर हो गई हैं. आइए एक नजर डालते हैं सचिन की ऐसी ही टॉप-10 वनडे पारियों पर.

#10 82(49) बनाम न्यूजीलैंड, ऑकलैंड (1994)

करियर के शुरूआती दिनों में खेली गई इस पारी को सचिन बेहद खास मानते हैं. इस मैच में नियमित ओपनर नवजोत सिंह सिद्धू के फिट न होने की वजह से सचिन को ओपनर के तौर पर उतारा गया. सचिन ने महज 49 गेंदों में 82 रन की धुआंधार पारी खेलते हुए टीम इंडिया को एक नया ओपनर दे दिया. इस मैच के बाद से वह टीम इंडिया के नियमित ओपनर बन गए और वनडे इतिहास के सबसे कामयाब ओपनर बन गए.

#9 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 84 गेंदों में 90 रन, मुंबई

वर्ल्ड कप के इस रोमांचक मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से जीत के लिए मिले 259 रन के टारगेट के जवाब में सचिन ने 84 गेंदों में 14 चौकों और 1 छक्कों की मदद से 90 रन की शानदार पारी खेली लेकिन आखिरी में भारत 16 रन से मंजिल से दूर रह गया.

#8 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 120 गेंदों में 117* रन, सिडनी (2008)

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन की ये एक और यादगार वनडे पारी है. CB सीरीज के पहले फाइनल में लक्ष्य का पीछा करते हुए सचिन ने ऑस्ट्रेलियाई धरती पर अपना पहला वनडे शतक जमाया और भारत को बेहतरीन जीत दिलाई.

#7 न्यूजीलैंड के खिलाफ 150 गेंदों में 186 रन, हैदराबाद


8 नवंबर 1999 को हैदराबाद में सचिन के बल्ले से निकली शतकीय पारी वनडे इतिहास की यागदार पारियों में शूमार है. न्यूजीलैंड के खिलाफ मास्टर ब्लास्टर के बल्ले से निकली नाबाद 186 रनों की पारी के बदौलत भारतीय टीम ने एक एकदिवसीय क्रिकेट में पहली बार 376 रनों के विशाल स्कोर को बनाया था. सचिन ने 150 गेंदों की इस पारी में 20 चौकों और 3 छक्के लगाए. उन्होंने राहुल द्रविड़ के साथ मिलकर दूसरे विकेट के लिए 331 रन की वनडे इतिहास की सबसे बड़ी साझेदारी का रिकॉर्ड बनाया, हालाँकि बाद में यह रिकॉर्ड टूट गया.

#6 134(131) बनाम ऑस्ट्रेलिया, शारजहां( कोका कोला कप 1998)

24 अप्रैल, 1998 को कोका कोला कप के फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सचिन तेंदुलकर द्वारा बनाए 134 रनों का कोई जवाब नहीं. उस यादगार पारी की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराया था. सचिन ने अपनी पारी में 12 चौके और 3 छक्के लगाए थे. हार के बाद ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव वॉ ने कहा था, ‘सचिन ब्रैडमैन के बाद क्रिकेट इतिहास के सबसे महान बल्लेबाज हैं और ऐसे महान बल्लेबाज से हार जाने में मुझे कोई शर्म नहीं महसूस होती.’

#5 140* vs Kenya at Bristol, 1999

पिता के निधन के तुरंत बाद सचिन देश के लिए खेलने वापस आए थे और केन्या के खिलाफ सचिन ने 140 रनों की पारी खेलते हुए अपने पिता को श्रृद्धांजली दी.

#4 98 vs Pakistan at Centurion, 2003

1 मार्च, 2003 को विश्व कप क्रिकेट के दौरान पाकिस्तान के खिलाफ सचिन तेंदुलकर द्वारा 75 गेंदों में बनाए गए 98 रनों की याद आज भी ताजा है. खासकर अख्तर की गेंद पर अपर कट से थर्ड मैन के ऊपर लगाया गया उनका छक्का हमेशा याद किया जाएगा. भारत ने 26 गेंद शेष रहते वह मुकाबला 6 विकेट से अपने नाम किया था.

#3 175 vs Australia at Hyderabad, 2009

5 नवंबर, 2009 को अहमदाबाद में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 141 गेंदों में बनाए गए 175 रन यादगार पारियों में से एक है. बावजूद इसके भारत यह मैच जीत नहीं सका था और महज़ 3 रन से हार गया. लेकिन समीक्षक सचिन की इस पारी को बेहतरीन मानते हैं. 351 रन के लक्ष्य के सामने जब बाकी के भारतीय बल्लेबाज फ्लॉप रहे तो सचिन ने एक छोर से अकेले ही कंगारुओं के खिलाफ हमला बोला. सचिन तेंदुलकर की जबरदस्त पारी ने उन्हें मैन ऑफ द मैच का खिताब दिलवाया. सचिन ने उस मैच में 19 चौके और 4 छक्के लगाए थे.

#2 200* vs South Africa at Gwalior, 2010

24 फरवरी, 2010 को ग्वालियर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सचिन तेंदुलकर ने वो कारनामा किया, जिसका इंतजार विश्व क्रिकेट को जमाने से था. सचिन ने नाबाद 200 रनों की पारी खेली और वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले पहले क्रिकेटर बने. सचिन ने इस पारी में सचिन ने चौकों- छक्कों की बारिश करते हुए मात्र 147 गेंदों पर 200 रन ठोंक दिए. इस दौरान इन्होंने 25 चौके और 3 छक्के लगाए. सचिन की इस पारी का ही कमाल था कि भारत ने 400 से ज्यादा का लक्ष्य साउथ अफ्रीका के सामने रखा.

#1 143 vs Australia at Sharjah, 1998

महज 25 साल की उम्र में सचिन ने अपनी दमदार बैटिंग से ऑस्ट्रेलियाई टीम की मजबूत गेंदबाजी की धज्जियां उड़ाकर रख दी थीं. सचिन ने एकतरफ गिरते भारतीय विकेटों के बीच महज 131 गेंदों में 143 रन की जोरदार पारी खेलते हुए भारत को त्रिकोणीय सीरीज के फाइनल में पहुंचा दिया था.

2 thoughts on “वनडे में सचिन की 10 बेमिसाल पारियां, जिसके बाद उन्हें क्रिकेट का भगवान कहा जाने लगा

  1. Pingback: लॉकडाउन के बाद कारों पर मिलेगा 5 लाख तक का डिस्काउंट, हाथ से ना जाने दें मौ - Any Tech Helps

  2. Pingback: कनिका कपूर को लेकर हुआ एक और बड़ा खुलासा..... - Any Tech Helps

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *